9 फ़र॰ 2012

पहले चरण का मतदान 
------------------------------------

झमाझम बारिश के बीच बरसे वोट

लखनऊ/अमर उजाला ब्यूरो।
Story Update : Thursday, February 09, 2012    3:38 AM
Increase the number of voters in Uttar Pradesh
बारिश के बीच बुधवार को वोटों की भी झमाझम बरसात हुई। विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान में बारिश और सर्द हवाएं भी वोटरों का जोश ठंडा नहीं कर सकीं। इसे वोटरों की जागरूकता समझें या चुनाव आयोग की मुहिम का नतीजा, आजादी के बाद पहली बार प्रदेश में 62 फीसदी से ज्यादा मतदान हुआ। खास बात यह रही कि पहले चरण का मतदान पूरी तरह शांतिपूर्ण रहा। कहीं से हिंसा तो दूर छोटे-मोटे झगड़े की शिकायत भी नहीं पहुंची।

मतदाताओं की लंबी कतारें लगी
जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया मतदान केंद्रों पर वोटरों की भीड़ बढ़ती गई और यह सिलसिला शाम ढलने तक जारी रहा। नतीजा यह रहा कि शाम पांच बजे मतदान की अवधि समाप्त होने के बाद भी बहुत से मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की लंबी कतारें लगी थीं। कहीं-कहीं तो मतदान की अवधि खत्म होने के सवा घंटे बाद शाम सवा छह बजे बजे तक मतदान कराना पड़ा। मुख्य निर्वाचन अधिकारी उमेश सिन्हा का कहना है अंतिम आंकड़े आने तक मतदान प्रतिशत में थोड़ा बहुत फेरबदल हो सकता है। बृहस्पतिवार सवेरे तक ही स्थिति साफ होगी।

कड़ी सुरक्षा के बीच वोट डाले
पहले चरण में लखनऊ, फैजाबाद, देवीपाटन और बस्ती मंडल के दस जिलों सीतापुर, बाराबंकी, फैजाबाद, अंबेडकरनगर, बहराइच, श्रावस्ती, बलरामपुर, गोंडा, सिद्धार्थनगर व बस्ती की 55 विधानसभा सीटों के लिए कड़ी सुरक्षा के बीच वोट डाले गए। बीती रात से चुनाव वाले जिलों में बारिश शुरू होने से कम मतदान की आशंका जताई जा रही थी। लेकिन बारिश और सर्द हवाओं को मुंह चिढ़ाते हुए बड़ी तादाद में लोगों ने वोटिंग में हिस्सा लिया।

चुनावी इतिहास में अब तक का रिकार्ड
हालांकि सवेरे सात बजे मतदान प्रारंभ होने के शुरुआती दो घंटे में मतदान की गति काफी धीमी रही। नौ बजे तक तकरीबन पांच-छह फीसदी मतदाता ही मतदान केंद्रों पर पहुंचे लेकिन बारिश थमने के बाद एकाएक मतदान की गति तेज हो गई और शाम पांच बजे मतदान खत्म होने तक 62 फीसदी से ज्यादा मतदाता वोट डालने पहुंच चुके थे जो प्रदेश के चुनावी इतिहास में अब तक का रिकार्ड है।

वोटर बने युवाओं में कुछ ज्यादा ही उत्साह
बाराबंकी, फैजाबाद, अंबेडकरनगर, गोंडा तथा आसपास के जिलों में सुबह आलम यह रहा कि लोग छतरी और बरसाती ओढ़कर मतदान केंद्र पहुंचे और मतदान किया। हालांकि मतदान में सभी वर्गों के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया लेकिन महिलाओं और पहली बार वोटर बने युवाओं में कुछ ज्यादा ही उत्साह दिखाई दिया। सिन्हा ने भी माना कि मौसम की खराबी के चलते शुरू में मतदाताओं को असुविधा हुई लेकिन बाद में मौसम कुछ ठीक होने पर लोग पूरे उत्साह के साथ मतदान करने निकले। नगरीय क्षेत्रों में 55 और ग्रामीण क्षेत्रों में 65 फीसदी से ज्यादा वोट डाले गए। 

कोई टिप्पणी नहीं:

समर्थक