20/01/2010


मां सरस्वती का आविर्भाव |


माँ सरस्वती की पूजा के दिन का मुहूर्त - यादव बंधुओं को इस दिन ज्ञान , बुद्धि विवेक की पूजा करना है ब्रह्मवैवर्त पुराण के गणपति खंड के अनुसार, सृष्टि काल में ईश्वर की इच्छा से आद्याशक्ति ने स्वयं को पांच भागों में विभक्त कर लिया। भगवान श्रीकृष्ण के अंगों से वे राधा, पद्मा, सावित्री, दुर्गा और सरस्वती के रूप में अवतरित हुई। सरस्वती उनके कंठ से निकली है। माघ शुक्ल पंचमी के दिन मां सरस्वती का आविर्भाव हुआ था। इस दिन को वसंत पंचमी भी कहते हैं
डॉ. लाल  रत्नाकर  

कोई टिप्पणी नहीं:

समर्थक