07/08/2010



अब दलित बच्चों ने किया सवर्ण रसोइये का बहिष्कार



अब दलित बच्चों ने किया सवर्ण रसोइये का बहिष्कार

Aug 07, 02:22 am

अब दलित बच्चों ने किया सवर्ण रसोइये का बहिष्कार


साभार जागरण से -

औरैया। मिडडे मील की गुणवत्ता के बजाय अब इसकी जाति पूछी जाने लगी है। पहले दलित रसोइयों के हाथों बने दोपहर के भोजन में कुछ लोगों ने जातिवाद का 'जहर' घोलने की कोशिश की, अब जब सवर्ण रसोइये ने खाना बनाया तो उसका भी बच्चों को बरगला कर बहिष्कार कराना शुरू कर दिया। यहां के एक परिषदीय विद्यालय के दलित और पिछड़े वर्ग के बच्चों ने ब्राह्मण रसोइये के हाथ से बने खाने का तीन दिन से खाने का बहिष्कार कर रहे हैं, जबकि उच्चाधिकारियों को इसकी भनक तक नहीं है। बच्चों ने शुक्रवार को भी खाने का बहिष्कार किया।
मामला भाग्यनगर ब्लाक के उच्च प्राथमिक विद्यालय दौलतपुर का है। इस विद्यालय में खाना बनाने के लिए पहले से दो रसोइयों की नियुक्ति है जिसमें से दोनों महिलाएं पिछड़े वर्ग से हैं। यहां दो दिन पहले ही एक महिला ब्राह्मण रसोइया की नियुक्ति हुई है तभी से लेकर दलित और पिछड़े वर्ग के बच्चे भड़के हैं और लगातार भोजन का बहिष्कार कर रहे हैं।
शुक्रवार को 'जागरण टीम' इस स्कूल में पहुंची, तो हेडमास्टर व शिक्षक मिडडे मील खाने के लिए बच्चों को मनाने में जुटे थे। लेकिन अधिकतर बच्चे खाने को तैयार नहीं हुए। यहां पंजीकृत कुल 146 बच्चों में 62 अनुसूचित जाति, 77 पिछड़े वर्ग व सात सवर्ण हैं। काफी समझाने के बाद 18 बच्चों ने ही मिडडे मील खाया।
खाने से इनकार करने वाले छात्र अर्जुन कठेरिया व अजय, सौरभ रूबी व सुनीता ने कहा कि नियुक्त की गयी महिला रसोइया स्वच्छता से खाना नहीं बनाती इसलिए वे नहीं खाते और न ही खायेंगे। छात्र रामखिलावन, रामजी, सोनू, संदीप ने भी ऐसी ही बातें कही।
विद्यालय के प्रधानाध्यापक राधेश्याम त्रिपाठी ने बताया कि गांव की राजनीति के कारण ऐसा हो रहा है। उनका कहना है कि इस पद के लिए कुल 36 आवेदन आये थे जिसमें से एक ब्राह्मण महिला की नियुक्ति प्रधान की संस्तुति पर की गयी थी जिससे अन्य आवेदक चिढ़ गये हैं।
इससे पूर्व संकुल प्रभारी श्रीराम शुक्ल ने भी विद्यालय पहुंचकर बच्चों को मनाने की कोशिश की लेकिन बच्चे टस से मस नहीं हुए। ग्राम प्रधान मिथलेश का कहना था कि यह विरोधियों की साजिश है जो बच्चों को भड़का रहे हैं। बीएसए डा. राजबहादुर मौर्य ने कहा कि उन्हें ऐसी कोई जानकारी नहीं मिली है हालांकि शनिवार को एबीएसए को जांच के लिए भेजा जायेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

समर्थक