02/08/2010

अमर सिंह 'पगला गए है' क्या ?
मुलायम सिंह को जिन्दा छोड़कर चले जाने का गम अब तक सता रहा है, मुसलमानों पिछड़ों और पूर्वांचल की चिंता को लेकर मान.अमर सिंह का सारा दारोमदार बेमानी ही लगता है. क्योंकि इनकी राजनीति उद्योगपतियों विदेशी सौदों और सिने कर्मियों के मध्य ही सुशोभित होती है न कि पिछड़े दलितों या मुसलमानों के.
(संपादक आवाज़)

मेरी मौत के जिम्मेदार मुलायम होंगे: अमर सिंह

Aug 01, 07:30 pm
इलाहाबाद। कुछ महीने पहले तक सपा प्रमुख के सबसे भरोसेमंद दोस्त रहे अमर सिंह ने रविवार को यहां कहा कि मुलायम सिंह ने उन्हें धोखा दिया। उन्होंने कहा कि जब सिंगापुर में मेरा इलाज चल रहा था, उस वक्त मुलायम सिंह आगरा में कल्याण सिंह को 'लाल टोपी' पहना रहे थे। अमर सिंह ने कहा कि यदि मेरी मौत हो जाती है तो इसके लिए मुलायम सिंह जिम्मेदार होंगे।
खुल्दाबाद के नुरुल्ला रोड पर लोकमंच कार्यालय के उद्घाटन के बाद अपने भाषण में उन्होंने कहा कि यदि सियासत में मेरा जीना जरुरी नहीं तो मुलायम का भी नहीं। बाद में करेली के शगुन पैलेस में पीस पार्टी की सभा में विशिष्ट अतिथि बनकर पहुंचे अमर सिंह ने कहा कि मुलायम सिंह का मुसलमानों से माफी मांगना ढोंग है। उन्होंने कल्याण सिंह, उनके पुत्र राजवीर सिंह और साक्षी महाराज को तो पार्टी में शामिल किया, जबकि आजम खान को निकाल दिया। उन्होंने कहा कि 2012 के विधानसभा चुनाव के बाद मुलायम सिंह खुलकर भाजपा के साथ हाथ मिला लेंगे।
बसपा सरकार पर कटाक्ष करते हुए अमर ने कहा कि लालजी टंडन को राखी बांधकर मायावती, नरेन्द्र मोदी का प्रचार करती रहीं। उन्होंने कहा कि मायावती के पास सिर्फ दिखाने के लिए नसीमुद्दीन, स्वामी प्रसाद मौर्य, बाबू सिंह कुशवाहा, सुखदेव राजभर, दारासिंह चौहान जैसे चेहरे हैं। अमर ने कहा कि पूर्वाचल राज्य के मुद्दे पर वह कोई समझौता नहीं करेंगे।
(जागरण से साभार)

 

कोई टिप्पणी नहीं:

समर्थक