15 अक्तू॰ 2010

"भारतीय खिलाडियों को इतने पदक लाने के लिए ढेर सारी बधाईयाँ"
- आवाज की ओर से
----------------------------------------------------------------------------  
आरोपों की भरमार, फिर भी समापन रंगा रंग !
डॉ.लाल रत्नाकर
कामनवेल्थ खेलों में भारत ने दूसरी जगह हासिल कर अपनी मर्यादा को चार चाँद लगा लिया . पर इंतजाम / घपलों और व्यवस्था की अव्यवस्था ने अभी तक पीछा छोड़ने का नाम ही नहीं ले रहा है.
सायना नेहवाल के स्वर्ण पदक ने देश को दूसरे पायदान पर खड़ा करा दिया . वहीँ हरियाणा ने पदकों की अधिकांश मात्रा हथियाने में पूरे देश को पीछे छोड़ने में कामयाब रहा है .
http://www.bbc.co.uk/hindi/multimedia/2010/10/101014_cwg_finalgames_ak.shtml



हरियाणा साबित हुआ सोने की खान

दिल्ली राष्ट्रमंडल खेल शुरु होने से पहले भारत को लेकर सिर्फ़ और सिर्फ़ नकारात्मक ख़बरें सुनने में आईं लेकिन भारतीय खिलाड़ियों ने अपने बेहतरीन प्रदर्शन से पूरा माहौल बदल दिया है.
भारत ने 38 स्वर्ण पदकों पर कब्ज़ा जमाया है. राष्ट्रमंडल खेलों में भारत का ये अब तक का सबसे बेहतर प्रदर्शन है. वर्ष 2002 में मैनचेस्टर में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में भारत को कुल 30 स्वर्ण मिले थे जबकि मेलबर्न में 22 गोल्ड मिले थे. लेकिन इस बार भारत उस रिकॉर्ड को पीछे छोड़ते हुए नई कीर्तिमान की ओर बढ़ रहा है.
भारतीय निशानेबाज़ों का निशाना मानो सोने के तमगों पर ही लगा रहा तो भारतीय तीरंदाज़ों के बाण भी नहीं चूके. कुश्ती में भी पहलवानों ने अपना लोहा मनावाया.
पदकों की इस बरसात में उत्तर भारतीय राज्यों पंजाब, हरियाणा और हिमाचल ने ख़ासा योगदान दिया. भारत को मिले पदकों में से हरियाणा ने सबसे ज़्यादा पदक दिलाए हैं. अगर हरियाणा को सोने की खान कहा जाए तो ग़लत नहीं होगा.
कुश्ती में हरियाणा के योगेश्वर दत्त, रविंदर सिंह, संजय कुमार, अनिल और राजेंदर ने स्वर्ण जीते हैं. रजत और कांस्य में भी हरियाणा पीछे नहीं रहा.
बेटियों ने दिखाया दम

हरियाणा के स्वर्ण पदक विजेता ( कुश्ती)

गीता
योगेश्वर दत्त
रविंदर सिंह
संजय कुमार
अनिल
राजेंदर
अनिता
सबसे कमाल की बात ये रही कि जो राज्य कन्या भ्रूण हत्या मामलों में आगे रहा है, उसी हरियाणा की लड़कियों ने राष्ट्रमंडल खेलों में भारत का नाम ऊँचा किया है.
हरियाणा में भिवानी के एक छोटे से गाँव से आने वाली गीता दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों में कुश्ती में स्वर्ण जीतने वाली पहली महिला रहीं. उनकी बहन बबीता ने 51 किलोग्राम फ़्रीस्टाइल कुश्ती में रजत पर कब्ज़ा किया और जज़्बा ऐसा कि रजत मिलने पर वे कह रही थीं कि वे लाज नहीं रख पाईं.
फ़्रीस्टाइल कुश्ती में हरियाणा की ही अनीता ने सोना जीता तो हरियाणा पुलिस में काम करने वाली निर्मला देवी रजत जीतकर आई हैं.
डिस्कस थ्रो में तो भारत ने इतिहास रचा. हैरानी की बात नहीं कि स्वर्ण और काँस्य जीतने वाली कृष्णा पूणिया और सीमा हरियाणा की मिट्टी से हैं. निशानेबाज़ अनिसा सईद भी फ़रीदाबाद की
भारत को खेलों में पदक जिताने वाले ज़्यादातर खिलाड़ियों की एक और ख़ास बात रही. ये खिलाड़ी किसी बड़े शहर से नहीं बल्कि भारत के छोटे-छोटे गाँवों और कस्बों से हैं और परिवार ऐसे की किसी तरह गुज़र बसर होता है.
गाँव की मिट्टी

अनिल ने कुश्ती में स्वर्ण जीता
तीरंदाज़ी में भारत के लिए स्वर्ण जीतने वाली 16 साल की दीपिका कुमारी झारखंड के एक छोटे से गाँव में रहती हैं, दीपिका के पिता ऑटो रिक्शा ड्राइवर है. वहीं दस हज़ार मीटर दौड़ में कांस्य पदक जीतने वाली कविता राउत नाशिक के गाँव से आती हैं.
उन्होंने धावक बनने का फ़ैसला इसलिए किया क्योंकि इसमें वो नंगे पैर दौड़ सकती थी.... परिवार के पास इतने पैसे नहीं थे कि जूते खऱीद सके.
भारत ने जिम्नास्टिक्स और तैराकी जैसी स्पार्धओं में भी खाता खोला जहाँ लोग भारत को रत्ती भर चांस देने को भी तैयार नहीं थे. आशीष कुमार ने एक नहीं बल्कि जिम्नास्टिक्स में दो पदक जीते.
तैराकी में भी इस बार भारत की झोली खाली नहीं गई. विकलांग खिलाड़ी प्रशांत ने दिखाया कि बिना सुविधाओं के अगर वो कांस्य जीत सकते हैं तो सुविधाएँ मिलने पर क्या हो सकता है.
ये नए, बदलते, उभरते भारत का वो चेहरा है जिसमें जीवट, हिम्मत और हौसला कूट कूट कर भरा हुआ है..जिनके पैर ज़मीन पर हैं पर निगाहें आसमान पर. जो जानते हैं कि सुधार की गुंजइश है और ये भी कि ये तो महज़ शुरुआत है.. अभी कई कीर्तिमान बनाने बाकी हैं.
भारत के इन जांबाज़ों की निगाहें अब एशियाई खेलों और ओलंपिक पर हैं.- वंदना  
(बीबीसी से साभार) 
http://www.bbc.co.uk/hindi/sport/2010/10/101014_cwg_closing_skj.shtml




स्टेडियम में शमां बांधा...ये आखिरी कार्यक्रम है समापन समारोह का....
इंडियन आइडल चुने गए श्रीराम ने भी परफॉर्म किया....
शुभा मुदगल ने गाया घटा सावन की.....अब के सावन जम के बरसे....
शंकर महादेवन ने युवाओं में लोकप्रिय गाने गाए....ड्रम पर हैं जाने माने ड्रमर शिवमणि
शामक दवार और शान का साथ दे रही हैं उषा उत्थुप
शामक दवार ने अंग्रेज़ी गाने से की शुरुआत की.....वी विल वी विल रॉक यू.. लोकप्रिय अंग्रेज़ी गीत
स्टेडियम में माहौल किसी उत्सव जैसा...सुखविंदर ने शमां बांधा
ज़िला खान के गीत लाल मेरी और फिर इला अरुण का लोकगीत....
कैलाश खेर के साथ है ज़िला खान और सुखविंदर सिंह..गीत है तेरा सज़दा...
दर्शकों ने ज़ोरदार स्वागत किया है कैलाश खेर का और उनके गानों पर लोग थिरक रहे हैं..
कैलाश खेर गा रहे हैं अल्लाह के बंदे
भारत के जाने माने कलाकार पहुंचे कला प्रदर्शन के लिए.....
मुकेश शर्मा पूरे स्टेडियम में लेज़र शो ..भांति भांति की कलाकृतियां बनती बिगड़ती
लेज़र शो कार्यक्रम शुरु...नृत्यांगनाओं का नृत्य
प्रिंस एडवर्ड- महारानी एलिज़ाबेथ की तरफ से मैं राष्ट्रमंडल खेलों के समापन की घोषणा करता हूं और आह्वान करता हूं कि सारे एथलीट 2014 ग्लासगो खेलों में हिस्सा लें
प्रिंस एडवर्ड पहुंचे खेलों के समापन की घोषणा करने
जमैका की क्रिसा स्मिथ को सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का खिताब, ट्रिपल जंप एथलीट हैं क्रिसा
राष्ट्रमडंल खेल संघ के अध्यक्ष माइक फेनेल ने दिल्ली का शुक्रिया अदा किया
सीपी की शक्ल की आकृति बनाते स्काटिश कलाकार..
बैगपाइपर की मधुर धुन पर रंगारंग नृत्य और झंडे बना रहे हैं कलाकार
स्टेडियम में ग्लासगो की एक झलक पेश करते कलाकार
स्कॉटलैंड के ग्लासगो में आयोजित होगा 2014 का राष्ट्रमंडल खेल. ग्लासगो के प्रतिनिधि को मिला राष्ट्रमंडल ध्वज
दिल्ली के लेफ्टिनेंट गवर्नर तेजिंदर खन्ना राष्ट्रमंडल ध्वज सौंपेंगे ग्लासगो के प्रतिनिधि को.
सुरेश कलमाडी ने राष्ट्रमंडल ध्वज दिया तेंजिदर खन्ना को
दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने ग्लासगो के लार्ड प्रोवोस्ट राबर्ट पिंटर को ध्वज सौंपने की घोषणा की
अगले राष्ट्रमंडल खेल ग्लासगो में. जिसके लिए ध्वज का हस्तांतरण
ललित भनोट को धन्यवाद दिया कलमाडी ने. लोगों ने फिर हूटिंग की.
दर्शक लगातार कलमाडी की हूटिंग कर रहे हैं.
कलमाडी ने पंडित नेहरु के बयान का ज़िक्र करते हुए कहा कि सफलता कष्टों के साथ आती है.
कलमाडी के भाषण में एथलीटों के ज़िक्र पर तालियां लेकिन कलमाडी की हूटिंग भी बरकरार.
लोगों ने लगातार हूटिंग की  सुरेश कलमाडी की.
मुकेश शर्मा आयोजन समिति के अध्यक्ष सुरेश कलमाडी का भाषण, लोगों ने ज़बर्दस्त हूटिंग की
सजी हुई ऑटो में शान और शेरा----गुडबाई शेरा गीत पर थिरकते दर्शक, बड़ा याद आएगा तू शेरा
शेरा के लिए शान गा रहे हैं गीत... दर्शकों का अभिवादन ले रहे हैं शेरा...गुडबाई शेरा
शान के साथ हैं खेलों के शुभंकर शेरा
जाने माने गायक शान आए अपनी गायकी के साथ
पाकिस्तान के एथलीटों का जोरदार स्वागत किया दर्शकों ने
नृत्य संगीत और मस्ती का माहौल स्टेडियम में.. अभी कई कार्यक्रम बाकी
एथलीटों के जत्थे दर्शकों का अभिवादन स्वीकार करते हुए. खुश दिख रहे हैं सभी एथलीट
भारत ने पहली बार इन खेलों में दूसरा स्थान प्राप्त किया है
साइना नेहवाल और पदक विजेता एथलीट भारतीय समूह में
भारतीय एथलीटों का समूह गगन नारंग के नेतृत्व में, तिरंगा नारंग के हाथ में
कुछ एथलीट अपने अपने देशों की पारंपरिक पोशाकों में
भाग लेने वाले देशों के झंडे मैदान पर और झूमते नाचते एथलीट चक्कर लगा रहे हैं मैदान का..
गेम्स में हिस्सा लेने वाले एथलीट आए मैदान पर
वालयंटियर्स ने बनाया मैदान पर राष्ट्रमंडल खेलों का लोगो...
खेलों के दौरान खिलाड़ियों की मदद करने वाले सैकड़ों वालयंटियर स्टेडियम में आए..रेलगाड़ी बना कर
आतिशबाज़ी के साथ ही स्टेडियम हुआ दर्शकों के शोरगुल से गुंजायमान
हरे, नारंगी और सफेद रंगों में रंगे बच्चे मानो तिरंगा झंडा बन गए हों, बीच में अशोक चक्र
वंदे मातरम का मंचन शुरु हुआ स्टेडियम में. सैकड़ों की संख्या में स्कूली बच्चे कर रहे हैं ये कार्यक्रम
सारे जहां से अच्छा की धुन के साथ ही मिलिट्री बैंड्स का कार्यक्रम हुआ समाप्त
संगीत की अलग अलग धुनें बजाती मिलिट्री बैंड्स ने शमां बांधा
मिलिट्री बैंड अपनी धुनें फिज़ा में बिखेरते, रंगारंग कार्यक्रम...
नौसेना, वायुसेना और थल सेना के बैंड आए स्टेडियम में...
अग्नि नाम से पहला युद्ध कौशल कार्यक्रम हुआ समाप्त.. नया कार्यक्रम सेना का...
आग के खेल हुए शुरु.. कलाकार दिखा रहे हैं आग के करतब
मुकेश शर्मा : भारतीय युद्ध कला-कौशल का अद्भुत प्रदर्शन
दक्षिण के योद्धा, नगा योद्धा, सिख योद्धा वीर रस के संगीत पर थिरकते और कला का प्रदर्शन करते.. झूम रहे हैं दर्शक
एयरोस्टेट पर उभरते कलाकारों के चित्र, विभिन्न राज्यों की युद्धकला का प्रदर्शन
पहला कार्यक्रम दक्षिण की युद्ध कला कलायरीपट्टू....नीले रंग में डूबा स्टेडियम
देवनागरी (हिंदी) अंकों में काउंटडाउन.....
काउंटडाउन के साथ ही समारोह हुआ शुरु
पहले कार्यक्रम के लिए बच्चे मैदान में आए. राष्ट्र गान
मुकेश शर्मा: समापन समारोह से पहले लोगों ने कलमाडी को देखकर हूटिंग की
राष्ट्रमंडल खेलों की पदक तालिका में भारत दूसरे स्थान पर रहा, पहले स्थान पर ऑस्ट्रेलिया तीसरे पर इंग्लैंड
कुछ ही क्षणों में समारोह शुरु होने वाला है..
केंद्रीय शहरी विकास मंत्री जयपाल रेड्डी और खेल मंत्री एमएस गिल भी समापन समारोह में
खेलों के सम्मानित अतिथि श्रीलंका के राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे स्टेडियम पहुंचे
उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी भी समापन समारोह में पहुंचे
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी भी पहुंचे समारोह में
मुकेश शर्मा प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पहुंचे समापन समारोह में, सुरेश कलमाडी ने उनकी अगवानी की
पुरुषों के मैराथन में भी कीनिया को दो पदक स्वर्ण और कांस्य
महिला मैराथन का स्वर्ण और रजत पदक कीनिया को
मैराथन दौड़ का पदक वितरण स्टेडियम में ही किया गया
समारोह शुरु होने में अभी थोड़ी देर.. लेकिन अभी कई सीटें खाली
बीबीसी हिंदी खेल संपादक मुकेश शर्मा बताएंगे स्टेडियम से रंगारंग कार्यक्रमों का ब्यौरा
दर्शक धीरे धीरे स्टेडियम की तरफ पहुंच रहे हैं.
जवाहर लाल नेहरु स्टेडियम के चारों तरफ कड़ी सुरक्षा
राष्ट्रमंडल खेलों के समापन समारोह के लिए तैयारियां पूरी


1 टिप्पणी:

सुरेश यादव ने कहा…

आवाज़ के मंच से आप ने सारगर्भित जानकारी प्रदान की है .कोमन वेल्थ खेलों के आयोजन के सन्दर्भ में विस्तार पूर्वक चर्चा के लिए आप को हार्दिक बधाई .m 09818032913

समर्थक