4 मई 2012

मिश्र जी अपने अभियान में कामयाब हो गए हैं

क्या आप जानते हैं की ओ लोग जो सारे आम अपराध करते हैं और लोगों को फसाते हैं उनके रूप इनसे भिन्न होते हैं क्या ? ये सारे तिकड़म करके सारे आन्दोलनों की धार इसी तरह बदलने में कामयाब होते हैं.
मिश्र जी अपने अभियान में कामयाब हो गए हैं, अब देखना है की बहुजन  समाज  का क्या होता है .












देखिये न इनके रिश्तेदारों के खेल;

सीबीआइ ने कहा शूटर दे दो एमएलसी साहब!

May 19, 10:19 pm
लखनऊ [जाब्यू]। राजधानी के डबल सीएमओ मर्डर केस की जांच कर रही सीबीआइ ने शनिवार को दो चक्रों में बसपा एमएलसी संजीव उर्फ रामू द्विवेदी से करीब तीन घंटे तक पूछताछ की। सीबीआइ अधिकारियों ने बसपा एमएलसी से सीएमओ मर्डर टीम में शामिल शूटरों के बारे में सवाल किया और कहा कि आप चाहो तो शूटर उपलब्ध हो सकते हैं। अभिसूचना संकलन में सीबीआइ को राजधानी के डबल सीएमओ मर्डर केस में फरार चल रहे दो शूटरों से रामू के करीबी रिश्ते की खबर लगी है। इसीलिए उनसे लगातार पूछताछ की जा रही है। पहले चक्र की पूछताछ में रामू काफी संयत रहे, लेकिन दोबारा सीबीआइ अधिकारियों के सवालों ने उन्हें पसीने-पसीने कर दिया।
सीबीआइ टीम ने शुक्रवार को पूर्व स्वास्थ्य मंत्री अनंत कुमार मिश्रा उर्फ अंटू मिश्रा से लंबी पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ते ही रामू द्विवेदी को फोन किया। उनकी लोकेशन पूछी तो पता चला कि वह देवरिया में हैं। सीबीआइ के एएसपी हरी सिंह ने रामू को शनिवार सुबह दस बजे विवेकानंद मार्ग स्थित राज्य अतिथि गृह में पहुंचने को कहा। रामू 11 बजकर 35 मिनट पर अतिथि गृह पहुंचे। आधे घंटे तक उनकी नोटिस नहीं ली गयी। बाद में अधिकारियों ने उनसे थोड़ी देर तक पूछताछ की और कहा कि ठीक साढ़े तीन बजे हाजिर हो जाओ। साढ़े 12 बजे रामू अतिथि गृह से मुस्कुराते हुए बाहर निकले और ठीक साढ़े तीन बजे दोबारा अतिथि गृह में पहुंचे।
सूत्रों के मुताबिक रामू से सबसे पहले यही सवाल हुआ कि देवरिया में कौन-कौन शूटर हैं और किससे किससे उनकी आमदरफ्त है? रामू ने कहा कि मैं जनप्रतिनिधि हूं और शूटरों के बारे में क्या जानूं। फिर सीबीआइ अधिकारियों ने उनके पुराने केस की सूची सामने कर दी। रामू बोले गैंगस्टर और एक दो केस छोड़कर शेष समाप्त हो गए हैं। सीबीआइ अधिकारियों ने कहा कि गैंगस्टर को शूटरों के बारे में जानकारी नहीं है? रामू ने कहा कि छात्र जीवन और आज के जीवन में अंतर है। सीबीआइ अधिकारियों ने कहा कि एमएलसी साहब नेपाल में फरारी काट रहा शूटर आपके करीब है, उसे बुलवा दो। रामू ने कहा कि मैं उसे नहीं जानता। सीबीआइ ने दोनों के बीच आमदरफ्त होने के सबूत होने का दावा किया। रामू चुप्पी साध गए। फिर उनके एकाउंट, फर्म और पुराने इतिहास पर भी पूछताछ होती रही। रामू ने कहा कि मेरी कोई फर्म नहीं है। थोड़ी देर के लिए रामू को डाक्टर शुक्ला के भी सामने किया गया।
सूत्रों के मुताबिक सीबीआइ रामू द्विवेदी से अनंत मिश्रा और डाक्टर शुक्ला की टीम से संबंधों के बारे में भी पूछताछ करती रही। इस दौरान रामू ने कहा कि इन लोगों से उनके संबंध नहीं रहे। अलबत्ता बाबू सिंह कुशवाहा एंड कंपनी से उन्होंने करीबी संपर्क बताया। सीबीआइ अधिकारियों ने रामू के करीबी सांसद से जब अनंत मिश्रा से अच्छे संबंधों का उदाहरण दिया तो उन्होंने यह माना कि उन लोगों के अच्छे संबंध रहे हैं। ऐसे ही सवालों के बीच सीबीआइ के अधिकारी रामू द्विवेदी से बार-बार शूटर और पिस्टल के बारे में तहकीकात करते रहे। सीबीआइ ने उनसे बार-बार यही कहा कि वह चाहें तो शूटर को ला सकते हैं। रामू को सहयोग का मौका देते हुए सीबीआइ अधिकारियों ने कभी भी बुलाए जाने की नसीहत के साथ शाम पांच बजकर बीस मिनट पर छोड़ दिया। वापसी में रामू ने मीडिया से कहा कि उनको सीबीआइ ने बुलाया था। वह उनके सवालों को जवाब देकर जांच में सहयोग कर रहे हैं। ध्यान रहे कि सीबीआइ रामू से पहले भी पूछताछ कर चुकी है।
गवाह बन सकते हैं डा. शुक्ला:-
डबल सीएमओ मर्डर केस में रिमांड पर लिए गए पूर्व सीएमओ डाक्टर एके शुक्ला पूरे दिन सहज रहे। वह दिन भर टीवी देखते रहे और बीच बीच में अपने अधिवक्ता रामकेवल त्रिपाठी और आशीष कुमार शुक्ला से परामर्श लेते रहे। कभी कभार सीबीआइ अधिकारियों ने उनसे दस बीस मिनट बातचीत की। सूत्रों का कहना है कि शुक्ला सीबीआइ का सहयोग करने को तैयार हैं। वह सीबीआइ के गवाह भी बन सकते हैं। सीबीआइ मुख्यालय से आए एक अधिकारी से डाक्टर शुक्ला की रात्रि आठ बजे मुलाकात होनी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

समर्थक