13/01/2010


मेरा हुआ अपमान नहीं आऊंगा सैफई : अमर सिंह

Jan 12, 11:05 pm
इटावा। सपा नेता अमर सिंह सैफई महोत्सव में नहीं आयेंगे। उन्होंने अपने ब्लॉग में सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव के नाम भेजे संदेश में कहा है कि लगातार हो रहे सार्वजनिक अपमान के बाद अब सैफई आना उचित नहीं होगा। उन्होंने लिखा है कि आपसे (मुलायम) व अखिलेश से संपर्क करने की काफी कोशिश की लेकिन संपर्क न हो पाने के कारण मुझे यह ब्लॉग लिखना पड़ रहा है। साथ ही उन्होंने यह भी लिखा है कि वे मानसिक नहीं बल्कि शारीरिक रूप से अस्वस्थ हैं।
पिछले कुछ दिनों के घटनाक्रम को देखते हुए यह अहसास हो रहा है कि यदि कोई भी अच्छा काम होता है तो उसका श्रेय दूसरों को दे दिया जाता है लेकिन कुछ खराब होने पर सारा का सारा इल्जाम मेरे सिर पर आ जाता है। पार्टी के कुछ नेताओं ने मुझ पर आरोप लगाया है कि पार्टी में फिल्मी सितारों और उद्योगपतियों की चकाचौंध मेरी वजह से आयी है और समाजवाद के मूल्यों के पतन का जिम्मेदार भी मैं ही हूं। इस सारे प्रकरण में जिस बात को मुद्दा बनाया जा रहा है वह बात मैंने कही ही नहीं है।
आपसे बेहतर कौन जानता है कि मेरा इस्तीफा राजनीतिक नहीं बल्कि सिर्फ एक व्यक्तिगत फैसला है। कुछ पत्रकारों से मुझसे पूछा कि क्या नेता जी का कोई राज मेरे पास है तो मैंने उत्तर दिया कि हम दोनों ने एक दूसरे के साथ कई चीजों में विश्वास की हिस्सेदारी की है। इस विषय में न वह कुछ बोलेंगे और न ही मैं कुछ बोलूंगा। मुझे पता लगा है कि रामगोपाल यादव ने इसे भी मुद्दा बना दिया है वह मुझे मानसिक रूप से बीमार बता रहे है जबकि मैं मानसिक रूप से नहीं शारीरिक रूप से अवश्य बीमार हूं। इसी वजह से मैंने छुट्टी मांगने का अपराध किया है। उसकी जो सजा आप चाहे मुझे दे दें।

नागवार गुजरीं अमर सिंह की बातें

Jan 13, 02:04 am
इटावा। अमर सिंह के इस्तीफे से उपजा विवाद फिलहाल ठंडा पड़ता नहीं दिख रहा है। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव प्रो. राम गोपाल यादव ने कहा है कि अमर सिंह भले ही उनको अपना बड़ा भाई मानते हों, लेकिन कल उन्होंने जो बातें मीडिया से कहीं वो अच्छी नहीं हैं।
मंगलवार को यहां सिविल लाइन स्थित सपा कार्यालय पर पत्रकार वार्ता के दौरान समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सांसद रामगोपाल यादव अमर सिंह से काफी नाराज दिखे, हालांकि उन्होंने काफी कुछ बातों को प्रकट नहीं किया परंतु इतना जरूर कहा कि वे अब इस मामले में पड़ना नहीं चाहते है और अब फैसला उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह के ऊपर छोड़ दिया है।
बताते चलें कि सोमवार को अमर सिंह द्वारा एक न्यूज चैनल में प्रो. राम गोपाल यादव द्वारा माफी मांगे जाने की जो बात कहीं गयीं थीं वो उन्हे व मुलायम सिंह को काफी नागवार गुजरी है। प्रो. रामगोपाल ने कहा कि हमारी जो फोन पर अमर सिंह से वार्ता हुई थी वो सैफई महोत्सव के परिप्रेक्ष्य में थी। सैफई महोत्सव के समापन समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर उन्हे हर वर्ष आमंत्रित किया जाता है।
इस वर्ष भी स्वागत समिति के निर्णय को मानते हुए मैंने उन्हे समापन समारोह में आने का न्योता दिया था। अमर मुझे अपना बड़ा भाई मानते है यह एक पारिवारिक बात थी जिसमें चार बर्तन खड़कते ही है। मैंने यह सोचा था कि छोटे और बड़े भाई में आपस में विवाद न हो इसलिए यह विवाद यहीं समाप्त हो जाए परंतु मीडिया में जिस तरीके की खबरे पेश की गयी है वो विवाद को खत्म करने की बात नहीं है। इस प्रकरण पर मैंने राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव से वार्ता की है। इस मामले में अब जो फैसला करना है राष्ट्रीय अध्यक्ष ही करेगे। मैं अपनी वजह से पार्टी में विवाद पैदा नहीं करना चाहता। अमर सिंह ने जो बातें कहीं है वह अच्छी नहीं है।
उन्होंने माना कि इस प्रकरण पर अब विराम लगना चाहिए। उन्होंने कहा कि 19 तारीख को समाजवादी पार्टी का जेल भरो आंदोलन शुरू हो रहा है और इटावा में इसकी जिम्मेदारी उन्हे सौंपी गयी है। उन्होंने जनपद की समस्त जनता व कार्यकर्ताओं से अपील की कि वे महंगाई, बेरोजगारी, कानून व्यवस्था आदि के विरोध में 19 के प्रदर्शन में भाग लें।

कोई टिप्पणी नहीं:

समर्थक