05/05/2010


जातीय आधार पर जनगणना चाहते हैं पासवान

May 04, 09:40 pm
भिवानी [जागरण संवाददाता]। लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष रामविलास पासवान ने कहा है कि देश में जनगणना जातीय आधार पर की जानी चाहिए। प्रत्येक राजनीतिक दल द्वारा टिकटों का वितरण, नौकरियों में आरक्षण, विवाह शादियों में जातीय आधार माना जाता है, तो जनगणना को जातीय आधार पर कराए जाने से सरकार को गुरेज क्यों है।
पूर्व मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि आजादी से पूर्व अंग्रेजों द्वारा 1931 में जातीय आधार पर जनगणना करवाई गई थी। उसी को आधार मानकर प्रत्येक दस वर्ष बाद प्रतिशत के हिसाब से जातीय अनुमानित जनसंख्या आंकी जाती रही है।
पासवान ने कहा कि वे स्वयं व दलित सेना प्रमुख सांसद रामचंद्र पासवान 6 मई को मिर्चपुर में जाएंगे और दलितों के साथ हुई इस घटना की पूरी जानकारी एकत्रित कर केंद्र स्तर पर आवाज बुलंद की जाएगी। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी का मिर्चपुर में आना और दलित परिवारों को सांत्वना देना एक अच्छा कदम है। पासवान बंधु लोक जनशक्ति पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष सुरेश सेन के पिता के निधन पर शोक व्यक्त करने आए थे। उन्होंने कहा कि देश में महंगाई के मामले में केंद्र सरकार पूरी तरह विफल है। उन्होंने कहा कि बिहार में राजद व लोक जनशक्ति पार्टी ने मिलकर चुनाव लड़ा था। हालांकि इस कारण उन्हे चुनाव में घाटा उठाना पड़ा, लेकिन उनका गठबंधन बरकरार रहेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

समर्थक