22/11/2010

मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन पर आज़म खान का तोहफा 
दैनिक जागरण से साभार-

आजम भी चाहते हैं सपा के नुकसान की भरपाई

Nov 22, 12:52 am
नई दिल्ली [राजकेश्वर सिंह]। सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव व मुहम्मद आजम खां के बीच जमी रिश्तों की बर्फ अब लगभग पूरी तरह पिघल चुकी है। तभी तो अब आजम की तमन्ना है कि मुलायम सिंह फिर से नए सुनहरे कल का सपना देखें और गुजरे वक्त को बुरा सपना मानकर भूल जाएं। इतना ही नहीं, उन्हें भी बीते समय में सपा को हुए नुकसान की भरपाई का गम सताने लगा है।
सपा से लगभग डेढ़ साल की अपनी बर्खास्तगी खत्म होने के बाद आजम खां ने पहली बार मुलायम के लिए अपने इन जज्बात का इजहार किया है। वह भी उनके जन्मदिन के मुबारक मौके पर उन्हें खत लिखकर। जन्मदिन की बधाई देने के साथ ही आजम की दुआ है कि नेताजी [मुलायम] पहले से भी ज्यादा मजबूती से राजनीति के मैदान में उतरें। उनका मानना है कि पूर्व में जो भी राजनीतिक नुकसान हुआ है, उसकी भरपाई होनी ही चाहिए।
इस बीच, आजम खां की मशावरती काउंसिल की उप समिति ने रविवार को यहां मुलायम सिंह यादव से मुलाकात कर मुसलमानों की तरक्की के सवाल पर अपनी बातों को रखा। सूत्रों की मानें तो सपा प्रमुख ने उन पर अपनी पूरी हामी भर दी है। अलबत्ता एक-दो बातें हैं, जिन पर आगे मुलायम व आजम मिलकर ही बात करेंगे। वैसे इस मुलाकात के बाद उप समिति व आजम खां को इत्मीनान ही नहीं, बल्कि बेहतर कल की आस भी जगी है। खुद आजम का मानना है कि मुलायम सिंह ने जो मौजूदा रुख अपनाया है, उसके बड़े मायने हैं। लिहाजा आने वाले दिनों में अच्छे नतीजों की उम्मीद की जा सकती है। सूत्र बताते हैं कि इस नई पहल के बाद अब वह दिन ज्यादा दूर नहीं, जब सपा के मंच पर एक दिन आजम भी मुलायम के हाथों को मजबूत करते हुए दिखेंगे। हालांकि आजम अब भी खुद को मुलायम का पुराना साथी ही मानते हैं। शायद इसी वजह से रविवार को दिल्ली में रहकर भी वे खुद मुलायम सिंह से नहीं मिले, लेकिन उनकी मशावरती काउंसिल ने उनकी बात को आगे जरूर बढ़ाया। 
प्रकाशन  -डॉ.लाल रत्नाकर 

कोई टिप्पणी नहीं:

समर्थक